शहर

​यूँ तो बरसों हो गये 

गाँव गये ।


पर सुना है गाँव जाने वाली 

रोज़ की

आखिरी बस में 

लोगों का हँसना 

औरतों का बतियाना

और 

बच्चों का खिलखिलाना होता है ।


शहर में चलने वाली आखिर 

बस में 

सुना किसी का रेप हो गया 😦

#Abvishu

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s