Wired and Wireless Love Story

कह कर की जाओ दुनियादारी के काम संभालों ,
वो रोज़ सुबह सात बजे ख्वाबों में अलविदा कहती है ।

मेरे जागते ही दुखी हो जाता है मोबाइल मेरा
उसे भी तो अब जुदा होना पड़ेगा चार्जर से ।

फिर दोनों साथ सफ़र पे निकल जाते है ज़िन्दगी के ।
उसकी बैटरी भी मेरी थकान के साथ साथ घटती जाती है ।

याद उसे भी आती है मेज पर पड़े चार्जर की ।
याद हमें भी आती है मेज पर रखी उस तस्वीर की ।

शाम होते होते गुस्से से लाल हो जाता है मोबाइल ।
कहता है मैंने खुद में सहेज रखा है उस तस्वीर को
जो मेज पर रखी है ।
तुम क्यूँ मेरी धडकनों को मेज पर छोड़ आये ।

अब वो खफा हो बात भी नहीं कर रहा मुझसे …शायद उसे नहीं पता शाम मुझे भी जल्दी है उस कमरे तक पहुँचने की ।

रात सिरहाने उन दोनों को मिला जब ख्वाबों के तकिये पे सोता हूँ ।
दिलों के तार जोड़ने वो भी चली आती है ।

एक पुरे दिन की थकन,
नींदों में जग कर मिटाता हूँ  ।
#Abvishu

4 thoughts on “Wired and Wireless Love Story

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s