बचपन

किसी के साथ खूब हँसे ,किसी के पीछे बहुत रोये

Untitled

वो बचपन ही था जहाँ हम हर हाल चैन की नींद सोये |