कन्धा

कन्धों पे बिठा घुमाया जिसने 

उन कन्धों का बोझ हल्का कर 

शायद जीने की आस बाकी रहे 

उन बूढी आँखों मे 

 

मौत पे तो गैर भी कन्धा दे देते है 

दो दिये

Poem I wrote for my college life in Bangalore 2 years ago taking inspiration from Coca-Cola Ad 

चलो ये दिवाली कुछ अलग तरीके से मनाते है 
दो दिये ज्यादा जलाते है 

टेंशन मे बैठे चाय दुकान के नाम दो दिये
दो दिये
उन दोस्तों के नाम जो दो बातों मे सब समझ जाये 

दो दिये
गर्ल्स हॉस्टल की लड़कियों के नाम 
दो दिये
HEBBAL वाली ESTEEM मॉल के नाम 

अपनी CAUVERY थिएटर के लिए दो 
कैंटीन मे अपनी COUPON के लिए दो 

हर मस्ती के लिए दो 
और 
हर पनिशमेंट के लिए दो 

FORUM के लिए दो 
लेट नाईट CABS के लिए दो 

दो दिये पहली CRUSH के नाम 
दो दिये BMTC के RUSH के नाम 

दो दिये BOOK के लिए 
दो हमारे COOK के लिए 

दो मेरी KADKI के नाम 
दो उस प्यारी LADKI के नाम 

दो दिये GM के लिए 
MG के लिए दो 

HappyDiwali

 

 

Image